Friday, January 20, 2012

Budget 2012 – Income Tax

Budget 2012 – Income Tax

When it comes to annual budget of government, a common Indian shows concern over the income tax rates just because this is the only aspect of the budget which falls under the understand arena of common citizen and affects on life style. This is the most common practice in the parliament that usually the finance ministers are used to have few sips of waters before reading out this section of the budget, though no one is aware about the actual reason behind this action but probably this action of finance minister can be justified with reason that as this section deals with drying up of funds of common people hence minister might be in need of a wet throat to announce it.   

I think most of us will agree that income tax is the tool which if used effectively can prove a very huge hurdle in the process of generating the black money. Unfortunately over the years we had over looked this effective tool just concentrating on collecting some revenue under this head and for this we had not only kept the income tax rates higher but also made it complicated with so many exemptions. In my view we need a very simplified rule for this along with a very effective statement of income and expenditures by the individuals should be made compulsory while filling the income tax return.

My suggestions for Income tax reads like the followings: -

1] If we look the expenses of living of a family of four in a city it comes around to minimum of Rs. 1.5 Lakh hence my first suggestion is that annual income up to Rs. 2 Lakh will not attract any income tax and should be considered as the tax free income for all individuals.
2] Education expenses of children is yet another major concern of middle class economy families hence my proposal is that up to Rs.1 Lakh or actual expenses made for the education of children, which ever is lesser should be deducted from the total income of parents. [If the husband and wife both are earning any of them can get this exemption or both can get shared maximum exemption of Rs. 1 Lakh] 
3] Every individual will be entitled for exemption of maximum of Rs. 1 Lakh for savings under PPF, LIC and even in mutual funds. This one lakh will also be deducted from the total income of the individual.
4] There will be no other exemption it means if a person is earning Rs. 4 Lakh 60 thousand and pays Rs. 80,000 for education of children while saves Rs. 80,000 net income for the tax calculation will be Rs. 3 Lakh out of which Rs. 2 Lakhs are tax free income and for remaining Rs. 1 Lakh will be taxable income.
5] As individuals will have to claim educational expenses hence this will compulsory for the schools and colleges to issue receipts for each and every amount collected from students even the fees collected for annual day celebration.
6] It will be essential for every citizen above 18 years to get registered with income tax irrespective of being liable for the purpose of income tax collection. This means every adult citizen will get a photo identity proof, which can be useful for many purposes at many places.
7] Income Tax Slabs: individuals will be supposed to pay income tax after deducting tax free income of Rs. 2 Lakh and exemptions allowed as in [2] & [3] at the following rates
a] First 2 Lakh at the rate of 5%
b] Next 3 Lakh at the rate of 10%
c] Next 10 Lakh at the rate of 15%
d] Income above Rs. 15 Lakh will attract flat rate of 20%
8] There will be no surcharge of any kind. As rates are considerably low hence there will be higher penalty say up to 70% tax for undeclared income.
9] Our present income tax return form is not indicating the actual assets held by the individuals hence there remains a space open for investing black money. My last proposal is associated with the alteration of income tax return form as the follow

Income Tax Return Form

1] Name of individual:
2] PAN Card No. :-
3] Permanent Residential Address:-
4] Present Address:-
5] Return for the Year ended on 31st December:
6] Income liable for tax during the year:
          a] Total Income
          b] Less education expenses
          c] Less saving exemption
          d] Net taxable income
7] Total Payable Income Tax:
8] Details of Tax paid / refund claims
          a] Advance tax paid on or before 15 June
          b] Advance tax paid on or before 15 September
          c] Advance tax paid on or before 15 December
          d] Tax paid before submitting this income tax return on
9] Net funds remains during the year
          a] Net taxable income
          b] Less Tax Paid
          c] Less House hold expenses
10] Details of loans, Assets and properties [including previous two years shown in separate columns]
a] Cash                   Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

b] Bank Balance        Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

c] Investments         Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

d] Fixed Assets        Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

e] Ornaments           Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

f] Agricultural land    Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

h] Loans                 Total            This year       Last Year       Previous to Last Year

This information will not only help in reducing the investment of black money in property but will also help banks and other financial institutions to get mirror for sanctioning loan to individuals.

As the income tax for the year will be collected well before the presentation of the budget hence finance minister will also enjoy the comfort of knowing the actual figures.

11] Pension is not an income hence pensioner should not be liable for any income tax, provided if they are not engaged with any earning activity. However filling annual income tax return should also be compulsory for these. Similarly citizen above 60 years not involved with any earning activity and with refunds on the investments only source of earning will also be exempted from paying income tax irrespective of amount getting as refund of investments.

12] As number of income tax returns filled will increased by huge hence there will be nominal charge of Rs. 100 for the filling the return. In case of individual fails to file income tax return by 31st March there will be penalty of Rs. 5000/- . 

Thursday, January 19, 2012

Rail Budget 2012 - Hopes of Common Indian

बजेट और आम आदमी - रेल बजेट
वैसे तो भारत वर्ष का बजेट फ़रवरी के अंत में संसद में पेश करने की परंपरा रही है परन्तु इस वर्ष उतरप्रदेश और अन्य राज्यों के विधानसभाओं के चुनाव के कारण मार्च मध्य तक बजेट पेश होने की संभावना है | मुझे याद है कि वर्ष २००८ के फ़रवरी महीने में जब हम लोगों ने जी न्यूज़ पर पब्लिक का वित्तमंत्री नामक कार्यक्रम में आम आदमी की बजेट से अपेक्षा सम्बन्धी विचार रखे थे तो ये कहा गया था कि इस कार्यक्रम का आयोजन देर से करने के कारण माननीय वित्तमंत्री जी इन सुझाओं पर विचार नहीं कर सकते है , इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस बार में अपने सुझाव जनवरी में ही देने जा रहा हूँ | इस आलेख को रेल तक ही सिमित रखते हुए मेरा  कहना   कि  सुनने को मिल रहे समाचारों के अनुसार रेल मंत्री जी रेल भाड़े को बढाने पर गंभीरतापूर्वक विचार कर रहें है | मेरा उनसे नम्र निवेदन है कि महंगाई से आंतकित आम आदमी पर और बोझा न डाला जाये | हम सभी जानते है कि विभन्न कारणों से आम आदमी के लिए रेल यात्रा का कोई पर्याय नहीं है |  यदि  हम थोडा गंभीरता से विचार करें तो न केवल रेल यात्रा को और अधिक  सुविधाजनक  और  सुरक्षित  बनाने के साथ साथ रेल राजस्व्य को भी बिना भाडा बडाये , बढाया जा सकता है |  मेरे सुझाव है
१]ये सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि २०० किलोमीटर या ३ घंटे से अधिक की यात्रा करनेवाले व्यक्ति को कम से कम बैठने का स्थान तो मिले | इस के लिए मेरा सुझाव है कि लम्बी दूरी की रेल गाड़ियों में,वर्तमान में जिन रेल डिब्बों को हम अनारक्षित कहते हैं उनकी संख्या बडाई जाये जो शयनयान डिब्बों की संख्या से अधिक नहीं तो कम से कम उनके बराबर तो अवश्य होनी चाहिए |
२]इन अनारक्षित डिब्बों की आसन क्षमता के ६०%का आरक्षण यात्रा से ७ दिन पूर्व करने का प्रावधान होना चाहिए जिसके लिए यात्री से नाम मात्र शुल्क प्रीति आसन रुपये ५ लिया जा सकता है |
३] शेष ४०% में से आधा रागियों और नौकरी के लिए जानेवालों को यात्रा के दिन बिना शुल्क लिए देने का प्रावधान होना चाहिए | बाकि बचे २०% में से ५% सैनिकों ,५% महिलाओं और १०%   आकस्मिक   यात्रा करने वालों को दिया जाना चाहिए |
४]इस आरक्षण का  नियोजन  इस  प्रकार  होना  चाहिए  जिससे  रेल  गाड़ी  के  मार्ग  पर  आनेवाले  हर  शहर  को उचित संख्या में आरक्षण का लाभ मिल सके |
५] १०० किलोमीटर अथवा २ घंटे से कम की यात्रा करने वाले यात्रिओं और मासिक  पासधारकों के लिए लम्बी दूरी की गाड़ियों में यात्रा करने की अनुमति नहीं होना चाहिए |
६] शयनयान में भी दिन के समय अर्थात प्रातः ८ बजे से रात्रि ८ बजे तक केवल बैठने की अनुमति होनी चाहिए अर्थात इन डिब्बों में सोने के आसन तो वर्तमान जितने ७२ ही रहेंगे परन्तु दिन के समय बैठने के लिए ९९  आसन उपलब्ध होंगे |
७] शयनयान में किसी भी समय निर्धारित संख्या से अधिक यात्री होने की अवस्था में सम्बंधित रेल कर्मचारी पर एक महीने की पगार नहीं मिलने जैसा कठोर दंड होना चाहिए |
८] यात्रियों की सुरक्षा और कार्य जवाबदारी को ध्यान में रखते हुए शयनयान  टिकेट  निरिकक्ष  को  किसी  भी अवस्था में दो जुड़े डिब्बों से अधिक की जवाबदारी नहीं दी जानी चाहिए |  
९]इसी प्रकार अनारक्षित डिब्बों को एक साथ जोड़ना चाहिए तथा प्रत्येक डिब्बे के लिए एक इस अनुपात में सुरक्षा कर्मचारी होना चाहिए |यात्रियों को उनके आरक्षित आसन पर बिठाना भी इस  सुरक्षा   कर्मी की ड्यूटी का हिस्सा होगा | 
१०]लम्बी दूरी की नयी रेल गाड़ियों के स्थान पर कम दूरी की नयी रेल गाड़ियाँ शुरू करने पर अधिक ध्यान देना चाहिए जिससे लम्बी दूरी की यात्रा करनेवाले यात्री अनावश्यक भीडभाड से बच सकेंगे और शांतिपूर्वक यात्रा कर सकेंगे |
११]वातानाकूलित डिब्बों में भी दिन के समय यात्रा करनेवालों की संख्या को  अनुपातिक स्वरुप में बढाया जा सकता है |
१२]दिन के समय शयनयान और वातानाकूलित डिब्बों में यात्री संख्या बढाने से न केवल अधिक यात्री सुविधापूर्वक यात्रा कर सकेंगे परन्तु साथ ही रेल का  राजस्व्य भी बढेगा |

Wednesday, January 18, 2012

My views about my unfinished Dream

18 Jan 2012 3:03 am
This is the time when I am starting to write this, before I write about my dream and my analytical views of this dream let me tell you that this doesn’t happen regularly that I get so early though getting up between 4:30 am and 5:30 am is normal part of my daily routine.  
I know you all eager to read about my dream but still you need to have patience for that as I wish to quote here that out of four brothers and three sisters I am the sixth one, and enjoy status of popular person of the society at local level and being known as person with very very strong will power.

My Unfinished Dream
          This dream starts with a medical report or more significant a blood test report of me, which was referred to a doctor other than my family doctor, by my younger brother, who concluded that person, is suffering from blood cancer and will die in next two months. [This might be interesting to know for all of you that my younger brother is living at a distance of about 1,000 K.M from the city where I live, both my family doctor and one referred by my younger brother were from my city.]
Continuing with my dream, my mother, who had finished her physical existence almost a decade ago, intercepts when I was about to beat my younger brother for referring my blood report to another doctor and hiding the views of that medical practitioner. Scene changes I am with the doctor refereed by younger brother telling him to narrate what happen to me, saying I am brave enough to face whatever happens to me.
Again scene changes I had finished my performance at reality show Dance India Dance and paying thanks to Grand Master Mithun Da for giving me this opportunity to share dying moments of my life with public and gave away message that life those ends even when you are aware of forthcoming death. All this was happening in the city where I was born and presently my younger brother is living.
Continuing with my unfinished dream, I have been selected for the next round to perform on song of choice of judges, but in the enthusiasm of being selected to next round I forget to ask judges about the song. I had started searching where judges are staying; my search starts with city of my birth and ends with a place from my present city at a distance of about 1,000 K.M. I am standing in front of office of one of friend and finding yet another friend, photographer by profession, I ask him about the staying place of judges.
Here my dream ends and this breaks my sound sleep which I enjoy regularly.

My Analysis of Dream

          Before I start this I would like to share a few things with all of you, [1] I am a person with very high imagination powers but seldom dreams during sleep as I am habituated of enjoying uninterrupted sound sleep.  [2] A few day back [on 13 Jan] I have uploaded a photo to my face book account with caption “Dare to face Real Examination are entitled for the Achievement of Mental Satisfaction” indicating dreams. [3] On the 15th Jan I was discussing with younger in laws about the dreams and suggesting them that dreams are nothing but the result of thought process of our unconscious mind. [4] Recently husband of my elder sister died due to cancer. [5] Yesterday night before going to bed I watched episode of Dance India Dance telecasted on 14 Jan on the internet.
          Here is my analysis for this dream. [1] I went under this dreaming experience just because since past few days my unconscious mind was thinking about dreams. [2] My brother in law who died of cancer was close to my heart and my life is inspired with life style of him. [3] My younger brother and I love each other much more than what we express. [4] Friends of my present city are holding importance equal to that of relatives in my life. [5] Off course Dance India Dance is one of my favorite T V program. [6] This dream proves that dreams are nothing but expression of our desires and end product of thought process of our unconscious mind. [8] I person always finding attraction and feeling attached with birth place. [8] Work place also holds importance equal to that of birth place in the life of human beings. [9] Last but not least my mother holds a great influence and importance in my life though physically she is not with me.   

Challenge to my Friends

          If you are interested in analysis of dreams or hold expertise in the field of dreams and human behavior do write your views about this unfinished dream as comment to this blog.

Saturday, January 14, 2012

जीवन की संध्या

संध्या समय को प्रायः समाप्ति का अर्थ के रूप में देखा जाता परन्तु क्या इसे ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि ये वो समय है जो एक नए सूर्योदय से पूर्व का काल है | वास्तव में जब हम ऐसा सोचेंगे तभी हम जीवन  की  सार्थकता  को समझ पाएंगे और सही अर्थों में जीवन आनंद से परिचित होने के साथ साथ इस आनंद के  उपभोग  से  वंचित होने से स्वयं को बचा पाएंगे | वर्तमान काल में ये प्रवर्ति बडती ही जा  रही  है कि एक निश्चित आयु अथवा सेवा निव्रती के बाद प्रायः हम ये समझने लगते हैं कि हम अपना जीवन जी चुके हैं और अब जो कुछ भी करना है बच्चों ने ही करना है | बस यही वो बुनियाद है जिस पर निर्माण होता है असंतोष और अकलेपन के विशाल महल जो अपनी विशालता से अभिभूत करने के स्थान पर हमें डराने के साथ साथ हम में विरकत्ता की भावना भी उपजता है यदि वास्तव में देखा जाये तो यही वह काल है जब कोई भी व्यक्ति अपने जीवन अनुभवों के आधार पर न केवल स्वयं सुखों की चरम सीमा पर होता है परन्तु साथ ही वह उस अवस्था में होता है कि न केवल अपने बच्चों का मार्गदर्शन कर सकें परन्तु साथ ही समय के साथ होनेवाले सामाजिक परिवर्तन को भी एक सार्थक दिशा प्रदान कर सके |
जीवन की संध्या जिसे कहा जाता है वास्तव में मानवीय जीवन का वह काल जब हम जीवन के भौतिक सुखों के आनंद की चरम सीमा पार कर चुके होते हैं या दुसरें शब्दों में कहा जाये तो इस आयु में भौतिक सुख अर्थहीन होने के साथ साथ प्रलोभन भी नहीं रहते हैं जिसके कारण हर व्यक्ति अपनी उर्जा को वास्तव में और सार्थक दिशा में उपयोग करने के लिए सर्वाधिक उचित अवस्था में होता है | जीवन का यह वो काल होता है जब हमें समय की कमी जैसा प्रश्न परेशान नहीं करता है कई लोगों के लिए तो इस अवस्था में समय गुजरना भी एक समस्या बन जाता है और वे ये समझ भी नहीं पाते है कि समय को कैसे व्यतिति करें ? कभी कभी तो ये समस्या इतना विकराल रूप ले लेती है कि हम जीवन आनंद का उपभोग करने के स्थान पर जीवन अंत की कामना करने लगते हैं |
यदि हम थोडा सा सतर्क रहें और अपने जीवन अनुभवों का लाभ उठाने के प्रीति थोडा सा सजग रहें तो अपने जीवन की संध्या को अपने जीवन के सर्वोतम काल में बदल सकते है | आवश्कता बस ये अनुभव करने की है कि हम जीवन के अंत कि ओर बढने के स्थान पर जीवन के पुनर्जन्म की दिशा में यात्रा कर रहें हैं | यहाँ पर कुछ सार्थक पहलें दी जा रही है जिनके उपयोग से हम अपने जीवन की संध्या को सार्थक बनाने के साथ स्वयं को भी इस अवस्था का पूरा पूरा आनंद लेने की अवथा में ला सकते हैं |
१] अनुभव कीजये कि आपकी शारीरिक शक्तियां कमजोर पड़ रही हैं ओर आप मानसिक रूप से अधिक शक्तिशाली तथा स्थिर रूप में विकसित हो चुकें है यह अहसास आपको अपनी दिनचर्या निश्चित करने में सफलता प्रदान करेगा |
२] स्वयं को किसी समाज उपयोगी मानसिक कार्य में व्यस्त रखें यदि आप में क्षमता है और आपके जीवन कार्य का क्षेत्र शिक्षा रहा है तो अपने परिसर के बच्चों का मार्गदर्शन और उनके स्कूल के ग्रह कार्य [ होम वर्क ] में मदद देना एक सार्थक कदम है जो न केवल आपकी समय गुजरने की समस्या हल कर देगा परन्तु साथ साथ ही आपके लिए अवसर होगा नयी पीडी के सोच को समझने और उनके जीवन दृष्टिकोण को जानने का |
३] अपने बच्चों पर आपके लिए समय निकालने के लिए दबाव मत बनाइये, याद कीजिये अपने कार्य दिनों में आप स्वयं कितने व्यस्त रहते थे | जहाँ तक संभव हो अपने बेटों बेटियों और बहुओं को उनके निर्णय स्वयं लेने दीजिये |
४] प्रायः यह होता है कि हम अपने कार्य दिनों में चाहकर भी अपने जीवन साथी के साथ पर्यटन पर नहीं जा पाते हैं अथवा किन्ही दूर के स्थानों कि यात्रा टाल देते हैं ये वो समय है जब आप इस कमी को पूरा कर सकते हैं | वर्ष में कम से कम दो बार तो अवश्य लम्बी यात्रा का कार्यक्रम बनायें | यदि संभव हो तो स्कूल की छुटियों का समय चुने और अपने नाती पोतों को साथ ले जाएँ आप पाएंगे कि यह समय आपके जीवन के सर्वोतम समय में सम्मिलित हो गया है |
५] समय के साथ जीवन पद्धति भी बदलती है प्रयत्नपूर्वक स्वयं में परिवर्तन लायें और खुद को आधुनिक जीवन शैली के अनुरूप ढाल लें |

Thursday, January 12, 2012

चुनाव और पैसा

किसीभी लोकतान्त्रिक विवस्था का चुनाव अनिवार्य अंग है परन्तु जिस प्रकार  से  हमारे देश में चुनावों के दौरान पैसों का महत्त्व और उपयोग बढता जा रहा है उसे देखेते हुए निश्चय ही ये कहा जा सकता है कि यदि समय रहते इस पर काबू नहीं पाया गया तो निश्चय ही भविष्य में यह प्रवृति एक लाइलाज रोग का रूप ले लेगी और वैचारिक रूप से योग्य पिरत्याक्षी के लिए चुनाव लड़ना असंभव बन जायेगा | अभी जिन पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव होने जा रहे हैं वहां से समाचार मिल रहे हैं कि पिछले ११ दिनों में में अकेले उतरप्रदेश में ही ३० करोड़ से भी अधिक बेहिसाबी पैसा जो चुनाव खर्च के लिए ले जाया जा रहा था पुलिस द्वारा जब्त किया गया है | वास्तव में देखा जाये तो हमारे देश में चुनाव काले धन की गंगोत्री बनते जा रहे हैं जिस प्रकार हमारे समाज ने ये स्वीकार कर लिया है कि लाखों रुपये खर्च करने के बाद बनानेवाले डॉक्टर को ये हक़ है कि वो कुछ सौ रुपये फीस ले उसी प्रकार करोड़ों रुपये खर्च करके चुनाव जीतनेवाले राजनेता के भृष्ट आचरण को भी नज़र अंदाज़ करने की घटक प्रवर्ती बढती जा रही है |
लोकपाल पर लोकसभा और राज्य सभा में हुए वादविवाद ने पुरे देश को न केवल दिखाया परन्तु अच्छी तरह से समझा भी दिया कि वास्तव में ये लोक प्रितिनिधि अपने अपने राजनैतिक दलों के प्रधान के आदेश से बाहर नहीं जा सकते हैं कियुंकि दल के आदेश के विपरीत वोट करने का अर्थ अपनी सदस्यता खोना है | इसे हम दुसरे शब्दों में कहे तो हमारे चुने हुए जन प्रतिनिधि जन आकांशा के अनुसार नहीं परन्तु अपने राजनैतिक दल की विचार धारा के अनुसार कार्य करने को विवश है |
प्रगति का एक अर्थ ये भी है कि हम सैदेव अनुचित बात को उचित बात से बदलने के लिए तैयार रहें हैं और वर्तमान समय बड़े ही साफ साफ शब्दों और बुलंद आवाज़ में बता रहा है कि यही उचित समय है जब हमें न केवल अपने राजनैतिक प्रणाली में सुधार लेन चाहिए परन्तु साथ साथ चुनाव में पैसों के बढते महत्व को कम करने के लिए भी उचित कदम उठाने चाहिए | इस सम्बन्ध में मेरे कुछ सुझाव अलोकतांत्रिक लगने संभव है परन्तु यदि ध्यान पूर्वक देखा गया तो ये सुझाव हमारी लोकतान्त्रिक व्वयस्था को मजबूती प्रदान करने की दिशा में एक सार्थक पहल साबित हो सकते हैं | राजनैतिक सुधारों के सम्बन्ध में मेरे सुझाव हैं :-
१] किसी भी राज्य में राज्य की जनसख्या के आधार पर राज्य स्तिरीय राजनैतिक दलों की संख्या निश्चित कर देनी चाहिए, जो किसी भी अवस्था में एक चुनाव विशेष के लिए तीन अथवा पांच [राज्य की जनसख्या के आधार पर ] से अधिक नहीं होनी चाहिए | अर्थात किसी भी क्षेत्र में ३ अथवा ५ से अधिक उमीदवार नहीं होंगे जिसका अर्थ होगा चुनाव में उपयोग होनेवाले पैसे की बचत |
२] चुनाव लड़ने के लिए इछुक व्यक्ति का किसी न किसी राजनैतिक दल का सदस्य होना अनिवार्य कर देना चाहिए साथ ही ये भी बंधन होना चाहिए कि कोई भी दल उस व्यक्ति को  चनाव  टिकेट  नहीं  दे  सकते हैं जो पिछले तीन वर्षों से कम समय से उस दल का सदस्य नहीं है इससे चुनाव के समय होनेवाले दलबदल को रोका जा सकता है |
३] चुनाव च्यूंकि दलगत आधार पर होंगे इसलिए कोई भी उमीदवार स्वतंत्र रूप से प्रचार नहीं करेगा जिसका अर्थ होगा चुनाव खर्च में बहुत बड़ी बचत |
४] उमीदवार को चुनाव के लिए पैसा खर्च करने की अनुमति नहीं होगी जो भी खर्च होगा वो उस उमीदवार के राजनैतिक दल द्वारा किया जायेगा | इस खर्च के लिए राजनैतिक दलों को अपना कोष तैयार करने की अनुमति होगी जिसके लिए वे व्यापारी वर्ग से चंदा ले सकतें हैं परन्तु यहाँ पर न्यूनतम ५००० रुपये और अधिकतम ५ लाख रुपये की सीमा होगी | राजनैतिक दलों के लिए यह भी अनिवार्य होगा कि वे इन चंदा देनेवालों के नाम और पैसे सार्वजनिक करें |
५] चुनाव जीतनेवाले दल के लिए ये अनिवार्य होगा कि सरकार बनाते समय विशेषज्ञों को मंत्री मंडल में स्थान दिया जाये उदहारण के रूप में वित्त मंत्री का अर्थ शास्त्री होना, स्वस्थ मंत्री का चिकित्सक होना, शिक्षा मंत्री का उच्च शिक्षित होना, खेल और युवा मामलों के मंत्री का ४० वर्ष से कम आयु का होना अनिवार्य होगा | ठीक इसी प्रकार राजनैतिक दलों को ये भी ध्यान देना होगा कि उनके चुने हुए सदस्यों में समाज के सभी वर्गों को उचित प्रतिनिध्तव मिले तथा जिन वर्गों को आरक्षण प्राप्त है उन वर्गों के सदस्य उसी अनुपात में हो | इस के लिए राजनैतिक दलों को अपने चुने हुए सदस्यों में से २०% तक को बदलने का अधिकार होगा परन्तु जिस नए सदस्य को चुने हुए सदस्य के स्थान पर मनोनीत किया जा रहा है उस व्यक्ति को उस क्षेत्र का कम से कम १० वर्षों से रहवासी होना और ३ वर्षों से अधिक के लिए दल का सदस्य होना अनिवार्य होगा |

Tuesday, January 10, 2012

क्या यही लोकतंत्र है ?

उतरप्रदेश और देश के चार अन्य राज्यों में इस माह के अंत और अगले महीने विधान सभा चुनाव
होने जा रहे हैं ,लोकतंत्र का यह पर्व उत्साह और निष्पक्षता से संपन्न हो इसलिए चुनाव आयोग की
तरफ से कई प्रकार के कदम उठाये जा रहे हैं | उत्तरप्रदेश  के  पार्कों  और  सार्वजानिक  स्थलों  पर  लगे  सुश्री  मायावती , श्री  कांशीराम  और हाथी  के पुतलों और मूर्तियों को चुनाव होने  तक  कपडे  से  ढक  देने  के  दिशा निर्देश अधिकारीयों को दिए गए है | चुनाव  आयोग  के  इन  दिशा  निर्देशों  ने  कुछ  नए  विवादों  को  जन्म दे दिया है |
लोकतंत्र की मांग यहीहै किचुनाव निष्पक्ष हो, निश्चय ही हाथी सुश्री मायावती जी की पार्टी का चुनाव चिन्ह है और  वह  अन्य  राजनैतिक दलों के चुनाव चिन्हों की भेट में, अपनी पार्कों और सार्वजानिक स्थलों पर उपस्थिति के कारण अधिक दृष्टिगोचर होगा, संभवतः चुनाव आयोग को ऐसा अनुभव हुआ है कि इससे सुश्री मायावती जी की पार्टी को चुनाव में फायदा मिल सकता है | प्रश्न ये है क्या कल चुनाव आयोग महारष्ट्र में चुनावों के समय ट्रेनों के परिचालन को भी बंद कर देगा कियुंकि ट्रेन इंजिन एक राजनैतिक दल महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का चुनाव चिन्ह है ? देश भर में लगे उन हजारों मूर्तियों और पुतलों का क्या जो कांग्रेस पार्टी की याद दिलाते है ? देश के प्रायः हर एक गाँव और शहर में कम से कम एक रोड या कालोनी का नाम श्री महात्मा गाँधी,  स्व. इंदिरा गाँधी, स्व. जवाहरलाल नेहरु अथवा स्व. राजीव गाँधी जी के नाम पर है ये सभी राजनेता कांग्रेस पार्टी से जुड़े हैं ? देश भर न जाने कितने तालाब है जिनमे कमल के फूल [बी जे पी का चुनाव चिन्ह ] उगते है क्या भविष्य में चुनाव आयोग इन सभी तालाबों पर कर्मचारी नियुक्त करने जा रहा है जो इन फूलों पर आम आदमी की नज़र पड़ने से पहले ही फूलों को तोड़ लें ? क्या हिन्दू धरम के उन सभी देवी देवतों के मंदिर जिन में कमल के फूलों के चित्र है, चुनाव आचार संहिता लागु होते ही चुनाव पुरे होने तक बंद कर दिए जायेंगे ?
वास्तव में देखा जाये तो प्रत्येक राजनैतिक दल जब भी सत्ता में आता है तो अपने ही दल के नेताओं के नाम पर संस्थओं और योजनाओं  का नामकरण करता है और चुनाव के समय इनसे फायदा उठाने का प्रयत्न करता है | वास्तव में देखा जाये तो अब समय आ गया है कि हम अपने लोकतंत्र की संहिता पर फिर से विचार करें और उसे समयनुसार परिवर्तित कर लें | मेरा प्रस्ताव है कि
१] देश में स्थित सभी संस्थानों, पार्कों, सार्वजानिक स्थलों,  रहवासी कालोनियों  और सड़कों [ जिनके नाम  किसी भी राज नेता के नाम पर है ] के नाम परिवर्तित करके उन समाज सेवियों के नाम पर रखना चाहिए जिनका अपने जीवन काल में किसी भी राजनैतिक दल से कोई सम्बन्ध नहीं रहा हो|
२]आज प्रायः सभी चुनाव इलेक्ट्रोनिक मशीनों द्वारा होते है अतः ये स्पष्ट है कि देश का हर नागरिक इतना तो समझदार है कि वो जानता है कि वो किसे वोट दे रहा है इसलिए ये सही कदम होगा कि राजनैतिक दलों को चुनाव चिन्ह देने की प्रथा को समाप्त कर दिया जाये |
३] किसी भी सरकारी योजना को किसी भी राजनेता का नाम देने पर पाबन्दी लगा देना चाहिए |
४] किसी भी राजनेता  का स्मारक बनाने के लिए न तो सरकारी जमीन दी जानी चाहिए और न ही किसी भी प्रकार की आर्थिक साहयता दी जानी चाहिए | यदि कोई राजनैतिक दल अपने किसी भी नेता का स्मारक बनाना चाहता है तो उसे अपने खर्चे पर यह कार्य करने की अनुमति होगी परन्तु इसकेलिए ये अनिवार्य होगा कि जिन व्यक्तियों अथवा संस्थओं से आर्थिक सहयोग लिया गया है उनकी सूची स्मारक के दर्शनीय स्थल पर दी जाये |
५] चुनाव के समय लगने वाले बड़े बड़े होर्डिंग्स और बोर्ड्स पर, शहर भर की दीवारों पर लगने वाले पोस्टर्स पर पाबन्दी लगा देना चाहिए |